Home | News | राष्ट्रीय स्तर की खेलकूद प्रतियोगिता में मध्यप्रदेश का बेहतर प्रदर्शन

राष्ट्रीय स्तर की खेलकूद प्रतियोगिता में मध्यप्रदेश का बेहतर प्रदर्शन

Font size: Decrease font Enlarge font

भोपाल, 

          देश के स्कूली विद्यार्थियों ने राष्ट्रीय स्तर की शालेय खेलकूद प्रतियोगिताओं में बेहतर प्रदर्शन कर राष्ट्रीय पदक तालिका में प्रथम तीन में स्थान बनाया है। इन खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिताओं में 102 स्वर्ण पदक जीते हैं।

स्कूल शिक्षा विभाग ने स्कूलों के कालखण्ड में खेलकूद को अनिवार्य रूप से शामिल किया है। अकादमी और कोचिंग कैम्प के माध्यम से छात्रों में उनकी रुचि के अनुसार खेलों में क्षमतावर्धन का काम कर रहा है। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल प्रतियोगिताओं में प्रदेश का नाम रोशन करने वाले खिलाड़ियों को प्रोत्साहन राशि भी दी जा रही है। राष्ट्रीय स्तर की खेल प्रतियोगिता में स्वर्ण-पदक हासिल करने वाले खिलाड़ी को 10 हजार, रजत-पदक विजेता को 7,500 और काँस्य-पदक विजेता खिलाड़ी को 5 हजार रुपये की प्रोत्साहन राशि दी गई है।

वर्ष 2017-18 में शालेय स्तर की राष्ट्रीय प्रतियोगिता में प्रदेश के स्कूली खिलाड़ियों ने 102 स्वर्ण, 93 रजत और 120 काँस्य-पदक हासिल कर राष्ट्रीय स्तर की पदक तालिका में पहली बार तीसरा स्थान प्राप्त किया है। वर्ष 2017-18 में स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया द्वारा जारी खेल कैलेण्डर में से मध्यप्रदेश में 15 राष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया। आयोजन की गुणवत्ता के कारण मध्यप्रदेश को स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इण्डिया द्वारा पुरस्कृत भी किया गया।

अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता का आयोजन

मध्यप्रदेश में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता एशियन स्कूल हॉकी चैम्पियनशिप स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा वर्ष 2017 में आयोजित की गई। इसमें 8 देशों श्रीलंका, यू.ए.ई., चीन, नेपाल, मलेशिया, सिंगापुर, थाईलैण्ड और मेजबान भारत ने सहभागिता की। एशियन हॉकी प्रतियोगिता में भारत की टीम विजेता रही।

स्कूल ओलम्पियाड

 

ग्रामीण अंचल में छिपी खेल प्रतिभाओं को सामने लाने के लिये पहली बार स्कूल ओलम्पियाड का आयोजन किया गया, जिसमें ग्रामीण स्तर पर मुख्य रूप से खेले जाने वाले खेल खो-खो, कबड्डी, रस्सीकूद, शतरंज, व्हालीबॉल एथेलिटिक्स को मुख्य रूप से शामिल किया गया। इन प्रतियोगिताओं में भी प्रदेश में पढ़ने वाले बच्चों की सहभागिता काफी अधिक रही।

Subscribe to comments feed Comments (0 posted):

total: | displaying:

Post your comment comment

  • Bold
  • Italic
  • Underline
  • Quote

Please enter the code you see in the image:

  • email Email to a friend
  • print Print version
  • Plain text Plain text
Tagged as:
No tags for this article
Rate this article
0